sucha-singh-chotepur1

आवाज-ए-पंजाब के CM कैंडिडेट हो सकते हैं सिद्धू, छोटेपुर बन सकते हैं पार्टी चीफ

.आप के कन्वीनर पद से हटाए गए सुच्चा सिंह छोटेपुर अब नवजोत सिद्धू, परगट सिंह और बैंस ब्रदर्स के नए फ्रंट आवाज-ए-पंजाब के चीफ कन्वीनर हो सकते हैं। छोटेपुर ने अपने सपोर्टर्स के साथ एक मीटिंग में इस बारे में रायशुमारी की। छोटेपुर सिद्धू के प्रपोजल से राजी हैं। सिद्धू चाहते हैं कि वे खुद सीएम कैंडिडेट हों और छोटेपुर पार्टी की जिम्मेदारी संभालें। इस बारे में जब छोटेपुर से पूछा गया तो उन्होंने कहा-मैं सिद्धू से नहीं मिला, लेकिन राजनीति में कुछ भी हो सकता है। उधर, छोटेपुर को हटाए जाने के बाद केजरीवाल ने गुरप्रीत घुग्गी को पंजाब का कन्वीनर बनाया है। किसने कराई छोटेपुर से बात…
– अकाली दल छोड़कर आए एक नेता ने दोनों गुटों में रजामंदी बनाने का काम किया। परगट सिंह ने भी पुष्टि की कि छोटेपुर से बात चल रही है।
– सिद्धू, परगट और बैंस बंधुओं का अपनी-अपनी सीटों को छोड़कर कहीं कोई असर नहीं है। जबकि, छोटेपुर के पास पूरे राज्य में संगठन का ढांचा है। इसीलिए सिद्धू उन्हें साथ लाना चाहते हैं।
– छोटेपुर ने माना कि बैंस ब्रदर्स के साथ उनकी नजदीकियां रही हैं। उन्होंने ही बलविंदर सिंह बैंस को अकाली दल अमृतसर के यूथ विंग का अध्यक्ष बनाया था। छोटेपुर तब अकाली दल अमृतसर के अध्यक्ष थे।
 उधर, केजरीवाल संभालेंगे पंजाब में कमान, घुग्गी को बनाया कन्वीनर
– आम आदमी पार्टी में क्राइसिस से निपटने के लिए अब अरविंद केजरीवाल कमान संभालने जा रहे हैं। अपनी इस मुहिम को वे 8 सितंबर से शुरू करेंगे।
– उन्होंने सभी की उम्मीदों के उलट सिर्फ 7 महीने पहले अपना राजनीतिक सफर शुरू करने वाले गुरप्रीत घुग्गी को छोटेपुर की जगह पंजाब का कन्वीनर बना दिया है।
– घुग्गी इसी साल 10 फरवरी को आप में शामिल हुए थे। मदर टेरेसा को संत की उपाधि देने के प्रोग्राम में शामि होन वेटिकन सिटी गए केजरीवाल ने साफ किया कि वे 8 सितंबर को पंजाब में चुनावी कमान संभालने जा रहे हैं। वे यहां 4 दिन रहेंगे।
– सबसे पहला काम रूठे हुए लोगों को मनाना है। उन्होंने माना कि उनके वॉलंटियर कुछ कारणों के चलते न केवल नाराज हैं, बल्कि गुस्से में भी हैं।
– केजरीवाल जानते हैं कि लाेगों में अब भी आम आदमी पार्टी की बात है। लेकिन, जिस तरह से नाराजगी बढ़ रही है, उससे काफी नुकसान हो सकता है।
घुग्गी ही क्यों?
छोटेपुर को हटाने से पहले हिम्मत सिंह शेरगिल का नाम तय था। लेकिन, पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी ने गुरप्रीत घुग्गी के नाम पर मुहर लगा दी। पार्टी को ऐसे चेहरे की तलाश थी, जो न केवल विवादों से दूर हो, बल्कि उसकी पूरे पंजाब में पहचान हो। मान ऐसे चेहरे थे, लेकिन कई विवाद होने से उनके नाम पर सहमति नहीं बनी।
वोट बैंक बचेगा?
छोटेपुर के जाने से पार्टी का काफी बड़ा वोट बैंक उनके साथ चला गया है। केजरीवाल की दिक्कत यह है कि अब तक जितने भी लोगों को उन्होंने पार्टी से निलंबित किया, वे चुपचाप घर बैठ गए, लेकिन छोटेपुर पंजाबभर में यात्रा शुरू करने जा रहे हैं। केजरीवाल को लगता है कि यदि वे भी पूरे पंजाब में घूमे तो वर्कर उनके साथ आ सकते हैं।
, , ,

Related Post

images

केजरीवाल ने टिकटों की बांट में इकट्ठे किए करोड़ों : सुच्चा सिंह

chotepur-759

Aapna Punjab Party’s first list of 15 candidates out; all are former AAP leaders

sucha-singh-chhotepur1

Chhotepur-led Aapna Punjab Party’s first list of candidates on Nov 9

images

APP first list to be out in first week of Nov; Chhotepur hits out at AAP

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *