download (1)

केजरीवाल की फौज ने पंजाबी लीडरशिप को दबाया: छोटेपुर

img_20160908_101914देश भगत यादगार हाल में परिवर्तन यात्रा रैली में पहंुचे आम आदमी पार्टी के पूर्व पंजाब कन्वीनर के निशाने पर अरविंद केजरीवाल, दुर्गेश पाठक और संजय सिंह रहे। उन्होंने कहा कि दिल्ली से आई 52 लोगों की फौज पंजाब की लीडरशिप को दबाकर रखना चाहती हैं। अढ़ाई साल पहले पंजाब से चार सांसद आप के बने। मुझे केजरीवाल ने दिल्ली बुलाया। बोले – आप पंजाब संभालिए। उसके बाद मैं गांव गांव घूमा। वालंटियरों ने 22 लाख रुपए चंदा दिया जो दिल्ली में फंड के लिए दिए। तीन वर्करों का निधन हुआ था।
उनके घरों में 7 लाख की मदद दी। पार्टी गतिविधि संचालन में मैंने अपना खर्चा खुद ही किया है। आज मुझे पैसे लेने के स्टिंग की बात करके सियासी तौर पर कत्ल करने की कोशिश की गई है। उन्होंने लोगों से पूछा – मैं राजनीति में रहूं या ना रहूं…? लोगों ने हाथ खड़े किए। जवाब आया – पंजाब को बचाने के लिए आप काम करते रहिए। छोटेपुर ने कहा कि पंजाब में टिकटें देने के नाम पर दिल्ली की 52 लोगों की फौज ने पैसे लिए। 2-2 करोड़ में टिकटें बेची गईं। दुर्गेश पाठक व संजय सिंह गलत रिपोर्टें केजरीवाल को दे रहे थे। मैंने बार-बार केजरीवाल से इस बारे बात करने को समय मांगा। उन्होंने मुझे 6 महीने में यह समय नहीं दिया।
छोटेपुर गलत, बाहरी चुनाव लड़ने नहीं गाइड करने आए : घुग्गी
आम आदमी पार्टी के नवनियुक्त प्रांतीय कन्वीनर तथा कामेडियन गुरप्रीत सिंह घुग्गी ने पदभार संभालने के बाद दरबार साहिब में माथा टेका और गुरुघर का आशीर्वाद लिया। इस मौके पर उनके साथ हलका दक्षिणी के उम्मीदवार डॉ. इंदरबीर सिंह निज्जर, सतपाल सोखी, गुरभेज सिंह समेत पार्टी के कई प्रमुख लोग शामिल थे।
माथा टेकने के बाद मीडिया से रूबरू होते हुए घुग्गी ने कन्वीनर पद से हटाए गए सुच्चा सिंह छोटेपुर द्वारा की गई बगावत को गलत करार दिया और कहा कि उन्होंने जल्दबाजी में फैसला किया। होना तो यह चाहिए था कि वह जांच में शामिल होते। उन्होंने यह भी कहा कि उनके जाने से पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा। इस वक्त सूबे में बाहर के नेताओं द्वारा की जा रही राजनीति पर उनका कहना है कि बाहर के लोग चुनाव लड़ने नहीं बल्कि गाइड करने आए हैं। रही नए की बात तो अरविंद केजरीवाल भी राजनीति में नए थे मगर उन्होंने एक विशाल पार्टी खड़ी कर दी।img_20160908_101914

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *